नीम-के-औषधीय-गुण,-फायदे-और-उपयोग-benefits-of-neem-hindi - nanoworld

Latest

नीम-के-औषधीय-गुण,-फायदे-और-उपयोग-benefits-of-neem-hindi


नीम के औषधीय गुण


नीम के औषधीय गुण नीम के पत्ते हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। यह शरीर में सूजन को कम करने में मदद करता है, यकृत और दिल को स्वस्थ रखता है। और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। कई लोग इसके कड़वे स्वाद के कारण नीम के पत्ते नहीं खाते हैं। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार, खाली पेट नीम का रोजाना सेवन न केवल शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है बल्कि शारीरिक विकारों को दूर करने में भी मदद करता है।
नीम के औषधीय गुण

चैत्र के मौसम में, जीवाणु संक्रमण अधिक व्यापक है। और नीम में पाए जाने वाले जीवाणुरोधी गुणों के कारण, इसका उपयोग कई बीमारियों को ठीक करने के लिए सदियों से किया जाता रहा है। यदि आप किसी भी कारण से नीम के पत्तों का सेवन नहीं कर सकते हैं, तो आप इसे सॉस के रूप में खा सकते हैं। सुबह नीम की चटनी खाने से आप हर तरह के वायरस और बैक्टीरिया से बच सकते हैं।

नीम प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट


नीम के औषधीय गुण नीम के अर्क में मधुमेह, बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के गुण हैं। नीम का तना, जड़, छाल और कच्चे फल भी शक्तिशाली पाए जाते हैं और समय-समय पर रोगों से लड़ते हैं। नीम प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और इसमें हर्बिसाइडल गुण भी होते हैं। नीम शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करता है ताकि हमारा रक्त संचार भी ठीक बना रहे।

नीम का उपयोग लगभग 4000 वर्षों से आयुर्वेद में औषधीय रूप से किया जाता रहा है और इसे आयुर्वेद में, सर्वर रोकथाम रोकथाम ’के रूप में भी जाना जाता है, जिसका अर्थ है - सभी बीमारियों का इलाज। आयुर्वेद में, नीम को एक अनोखी औषधि माना जाता है, क्योंकि नीम के औषधीय गुण से सभी तरह की बीमारियों का इलाज संभव है।

नीम एंटीबायोटिक से भरपूर होता है, जो बीमारियों को दूर रखने का काम करता है। नीम स्वाद में कड़वा होता है लेकिन बीमारियों के लिए भी उतना ही फायदेमंद है। नीम का पेड़ त्वचा के संक्रमण, घाव और फंगल संक्रमण जैसी कई बीमारियों का इलाज है।

नीम दवाओं का खजाना है


नीम के पेड़ का हर हिस्सा महत्वपूर्ण है नीम का फल, बीज और पत्ते, इन सभी से तेल निकाला जाता है और नीम तेल का उपयोग त्वचा संबंधी रोगों और कई अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के उपचार के लिए किया जाता है। नीम तेल का उपयोग ज्यादातर त्वचा संबंधी रोगों जैसे एक्जिमा और सोरायसिस के लिए किया जाता है, इसे जल्दी से ठीक किया जा सकता है, लेकिन एंटीबायोटिक गुणों के कारण, नीम सभी प्रकार के रोगों का इलाज कर सकता है। आइए जानते हैं कौन सी हैं वो बीमारियां, जिनका इलाज नीम के इस्तेमाल से किया जा सकता है -

रोजाना नीम के सेवन से खून साफ ​​हो जाता है-


नीम के सेवन से शरीर का खून साफ ​​होता है और रक्त में शर्करा का स्तर भी संतुलित रहता है। दो-तीन नीम के पत्तों और थोड़े से शहद को एक गिलास पानी में मिलाकर नियमित रूप से सुबह खाली पेट पीने से भी हार्मोन के स्तर में सुधार होता है।

मजबूत हड्डियों और जोड़ों के दर्द के लिए नीम का उपयोग

हड्डियों और जोड़ों के दर्द के लिए नीम का उपयोग


नीम में एक भड़काऊ तत्व होता है, जो दर्द से राहत देता है। नीम के पत्ते और फूल जोड़ों के दर्द में राहत देते हैं। लगातार दो महीने तक नीम के फूल और पत्तियों को एक गिलास पानी में उबालें और इस पानी को पीने से गठिया ठीक हो जाता है। इसके साथ ही नीम के तेल की मालिश से जोड़ों का दर्द भी दूर होता है और नीम का तेल मांसपेशियों को भी मजबूत बनाता है।

मधुमेह के रोगियों के लिए नीम का उपयोग

मधुमेह के रोगियों के लिए नीम का उपयोग रामबाण इलाज-


  एक अध्ययन में पाया गया है कि मधुमेह के रोगियों के लिए नीम में हाइपोग्लाइसेमिक गुण होते हैं, जो रक्त में शर्करा के कणों को कम करते हैं। यदि कोई मधुमेह रोगी सुबह नीम की पत्ती खाता है, तो रोगी की शर्करा संतुलित रहती है।

नीम चेहरे में चमक लाता है


भले ही नीम परीक्षण करते समय व्यक्ति का चेहरा खराब हो जाए, लेकिन नीम चेहरे के लिए एक बेहतरीन औषधि है। नीम फेस पैक, नीम का पानी, नीम शहद, नीम साबुन और नीम का तेल आदि का उपयोग चेहरे को निखारने के लिए किया जाता है।

नीम के इस्तेमाल चोटें भी चली जाती हैं-


अगर किसी चोट के निशान पर नीम के पेस्ट का उपयोग किया जाता है, तो किसी भी प्रकार के निशान कम हो जाते हैं। इसके लिए नीम के पेस्ट में थोड़ी सी हल्दी मिलाएं। इसके अलावा तुलसी, गुलाब जल के साथ नीम के पत्तों को पीसकर चेहरे पर लगाने से त्वचा में निखार आता है और त्वचा में निखार आता है।

घाव भरना नीम के इस्तेमाल


घाव भरना नीम के इस्तेमाल नीम के पत्ते घाव को बहुत जल्दी ठीक करते हैं। बस इसके पत्तों का पेस्ट बनाएं और इसे घाव या कीड़े के काटने पर प्रभावित जगह पर लगाएं।

रूसी में नीम के इस्तेमाल


अगर आपको डैंड्रफ की समस्या है, तो कुछ नीम के पत्ते लें और इसे पानी में उबालें। अब इस पानी को ठंडा होने दें। अपने बालों को शैम्पू से धोने के बाद इस पानी से साफ़ करें।

आंख में जलन नीम के इस्तेमाल


अगर आपको आंखों में जलन हो रही है, तो नीम के कुछ पत्तों को उबालें, पानी को पूरी तरह से ठंडा होने दें और फिर इसका इस्तेमाल अपनी आंखों को धोने के लिए करें। यह आंखों में किसी भी तरह की जलन, थकान या लालिमा में मदद करेगा।

कान के लिए फायदेमंद


नीम भी कान की समस्याओं को आसानी से ठीक कर सकता है। बस कुछ नीम के पत्तों को मैश करें और इसमें कुछ शहद जोड़ें। किसी भी कान के फोड़े का इलाज करने के लिए इस मिश्रण की कुछ बूंदों का उपयोग करें।

त्वचा विकार


नीम की पत्तियां त्वचा के लिए बहुत चमत्कारी मानी जाती हैं। इसके लिए हल्दी को नीम की पत्तियों के पेस्ट के साथ मिलाएं। यह खुजली, एक्जिमा, दाद और कुछ हल्के त्वचा रोगों के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

प्रतिरक्षा को बढ़ावा दें


कुछ नीम के पत्तों को कुचलें और उन्हें अपनी प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए एक गिलास पानी के साथ लें।

नीम में गर्भनिरोधक गुण होते हैं जो गर्भपात का कारण बनते हैं। यदि आप इसके उपयोग से कोई नकारात्मक प्रभाव देखते हैं, तो आपको आयुर्वेदाचार्य से संपर्क करना चाहिए।

 #खून साफ कैसे करे रक्त को पतला करने के उपाय

No comments:

Post a comment

how to change gmail password from mobile hindi

How to change Gmail password from the mobile कुछ परिस्थितियों में, हम अपना जीमेल पासवर्ड बदलना चाहते हैं। उपयोगकर्ता अपने खाते को सुरक्...

Popular Posts